You are here

जिंदल ग्‍लोबल यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स को CII, NDB और JSPL में मिला प्लेसमेंट

22 June 2018
/
NDTV

ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स को अच्छा प्लेसमेंट मिला हैं. स्टूडेंट्स को कई बड़ी और नामी कंपनियों के साथ काम करने का मौका मिला हैं.

 

नई दिल्ली: ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी के जिंदल स्कूल ऑफ गवर्मेट एंड पब्लिक पॉलिसी  के 2018-19 के सेशन में पढ़ रहे स्टूडेंट्स को अच्छा प्लेसमेंट मिला हैं. स्टूडेंट्स को कई बड़ी और नामी कंपनियों की तरफ से जॉब ऑफर मिले हैं.

 

सबसे ज्यादा नौकरियां ऑफर करने वाली कंपनियों
भारतीय उद्योग परिसंघ (CII)
अमेरिकन चेंबर ऑफ कॉमर्स
स्पोर्ट्स न्यूज मीडिया प्राइवेट लिमिटेड
जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड (JSPL)
इंटरनल रेवेन्यू सर्विस (आरआईएस)
इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी (आई-पीएसी) 
संसद सदस्यों के विधायी सहायक (एलएएमपी) फेलोशिप
सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट
साइबर पीस फाउंडेशन
सेंटर फॉर सिविल सोसाइटी अकादमी
अकाउंटबिलिटी इंडिया
इंडियन इंस्टीट्यूट फॉर ह्यूमन सेटलमेंट्स (आईआईएचएस)

इंटरनेशनल फूड पॉलिसी रिसर्च इंस्टीट्यूट (आईएफपीआरआई)
हरियाणा-मुख्यमंत्री के गुड गवर्नेस एसोसिएट
नवज्योति फाउंडेशन
न्यू डेवलपमेंट बैंक (एनडीबी)

ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉ सी.राज कुमार ने करियर अवसरों के बारे में कहा,"अतीत में लोक नीति का अध्ययन प्रशासनिक सेवा करियर या अकादमिक पदों तक ही सीमित माना जाता था.

 

हालांकि, जेएसजीपी ने इस धारणा को तोड़ दिया है और इसमें कई तरह के करियर विकल्प खोले हैं और यूपीएससी और पीएचडी से आगे जाकर स्नातक स्टूडेंट्स के लिए विभिन्न पूर्णकालिक पदों का रास्ता दिखाया है.

हमारे स्टूडेंट्स कॉर्पोरेट क्षेत्र, दूतावासों, थिंक टैंक, सलाहकार, गैर सरकारी संगठनों और अंतर सरकारी निकायों में पूर्णकालिक पदों पर अपनी जगह बना रहे हैं."

जेएसजीपी के डीन प्रोफेसर आर. सुदर्शन ने कहा,"हमारा लक्ष्य करियर के अवसरों को विस्तृत करना है जो लोक नीति के स्नातोत्तर छात्रों के लिए आकर्षक और बेहतर हो.

बहुत से राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय संस्थान जिसमें गैर-लाभकारी क्षेत्र और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी वाले संगठन (सीएसआर) भी शामिल हैं, जेएसजीपी से ग्रेजुएट स्टूडेंट्स को ले रहे हैं.

उनमें से कई ने इंटर्नशिप और कैपस्टोन परियोजनाओं की पेशकश के लिए हमारी यूनिवर्सिटी के साथ समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं."